33 views 1 sec 0 Comment

अनिल कुमार का आप पर हमला बोले दिल्ली में हो रही ठण्ड से गरीबो की मौत,CM दूसरे राज्यों में व्यस्त

- January 30, 2022

अनिल कुमार का आप पर हमला बोले दिल्ली में हो रही ठण्ड से गरीबो की मौत,CM दूसरे राज्यों में व्यस्त

नई दिल्ली, 30 जनवरी, 2022 – दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने आश्चर्य व्यक्त किया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द जो अपने आप को दिल्ली का बेटा कहते है और उनके के होते हुऐ दिल्ली में जनवरी के पहले 28 दिनों में ठंड के कारण 172 बेघर लोगों की मौत कैसे हो गई? उन्होंने कहा कि वास्तक में सच तो यह है कि अरविंद सरकार ने अभी तक सडकों पर रहने वाले गरीब लोगों को कड़ाके की ठंड से बचाने के लिए कोई इंतजाम नहीं किया क्योंकि अरविन्द केजरीवाल को दिल्लीवासियों की चिन्ता है ही नहीं बल्कि वे खुद और उनके अन्य मंत्री चुनाव वालें राज्यों में अपनी राजनीति चमका रहे है।

दिल्ली के बेघर गरीब लोग चौहतरफा मुसीबत की मार झेल रहे

उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल के गैर जिम्मेदाराना रवैय के कारण दिल्ली के बेघर गरीब लोग चौहतरफा मुसीबत की मार झेल रहे है फिर चाहे वो कड़ाके की ठंड हो कोरोना महामारी संकट हो, या प्रदूषण इन सब खराब परिस्थितियों में दिल्ली का गरीब हमेशा अकेला ही रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति होने के वाबजूद भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द को अपने चुनाव प्रचार में दिल्ली विकास मॉडल की झूठी सेखी मारते रहते है।

दिल्ली में जो हजारों लोग फ्लाईओवर के नीचे सोते है

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली में जो हजारों लोग फ्लाईओवर के नीचे सोते है बारिश की स्थिति में वंहा पानी भर जाता है ऐसे में उनकी सुरक्षा के लिए भी केजरीवाल ने पुख्ता इंतेजाम नहीं किए और गरीब बेघर लोगों के ठंड से बचाव के लिए भी अरविन्द ने कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने इन गरीबों का बेटा बन कर उनके साथ वादा खिलाफी की है क्योंकि केजरीवाल ने चुनावी घोषण पत्र के दौरान इन गरीबों से जो वादे किए थे वे आज तक पूरे नहीं किए है।

रैन बसेरा सुविधा और सुरक्षा दोनों की दृष्टि से उपयोगी नहीं है

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द द्वारा स्थापित रैन बसेरा सुविधा और सुरक्षा दोनों की दृष्टि से उपयोगी नहीं है क्योंकि उनके द्वारा स्थापित रैन बसेरों में इतनी गन्दगी होती है कि कोई स्वास्थ्य व्यक्ति भी बीमार पड़ सकता है और ऐसे में रैन बसेरा का इस्तेमाल करने से कोरोना महामारी फैलने का भी डर है। बेघर महिलाएं तो इन रैन बसेरों का इस्तेमाल करने से भी कतराती है क्योंकि महिला सुरक्षा की दृष्टि से रैन बसेरा में रहने वाली महिलाएं अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करती है क्योंकि रैन बसरों में महिलाओं के साथ छेड़-छाड की घटनाएं आए दिन होती रहती है।

जनवरी में जब ठंड का मौसम असहनीय था

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि जनवरी में जब ठंड का मौसम असहनीय था और और कोविड संक्रमण और मौतें तेजी से बढ़ रही थीं, तब दिल्ली में कोई जिम्मेदार मुख्यमंत्री मौजूद होना चाहिए था लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की प्राथमिकता कहीं और थी वें चुनावी सभाओं को संबोधित कर रहे थे और पंजाब में विधायक सीटें बेच रहे थे बजाए दिल्ली में उत्पन्न गम्भीर समस्याओं को दूर करने के।चौ. अनिल कुमार ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने अपने ऐशोआराम और राजनीतिक प्रचार व प्रसार के लिए दिल्ली की जनता से टैक्स के रूप में बसूले 490 करोड़ रूपए पानी की तरह बहा दिए लेकिन अरविन्द केजरीवाल ने गरीबों के उत्थान के लिए एक भी रूपया खर्च नहीं किया।