23 views 3 sec 0 Comment

सूटकेस में युवती के शव की आत्महत्या वाली कहानी निकली झूठी, प्रेमी ही निकला रेश्मा का कातिल

- March 26, 2022

सूटकेस में युवती के शव की आत्महत्या वाली कहानी निकली झूठी, प्रेमी ही निकला रेश्मा का कातिल

रिपोर्ट: सलमान मलिक

रुड़की के पिरान कलियर क्षेत्र के एक होटल में सूटकेस से बरामद हुआ युवती का शव और गिरफ्तार प्रेमी की आत्महत्या वाली कहानी झूठी निकली। एसपी देहात ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी युवक ने युवती की हत्या की और शव को ठिकाने लगाने के लिए सूटकेस में रखकर ले जा रहा था। वही होटल में कमरा लेने के लिए युवती की फर्जी आईडी का इस्तेमाल किया गया था। मृतका मंगलौर की रहने वाली थी और आरोपी युवक की दूर की रिश्तेदार भी थी।

कुछ घण्टों बाद ही जब गुलजेब भारी भरकम सूटकेस लेकर होटल से निकला

ब्रस्पतिवार को पिरान कलियर स्थित दून साबरी गेस्ट हाउस में गुलजेब पुत्र सनव्वर निवासी घोसियान ज्वालापुर ने कमरा लिया था इस दौरान वह सपनी प्रेमिका को साथ लेकर ठहरा था। कुछ घण्टों बाद ही जब गुलजेब भारी भरकम सूटकेस लेकर होटल से निकला तो होटल कर्मी को शक हुआ जिसके बाद उसे पकड़कर सूटकेस खोला गया तो उसमें युवती का शव था, मौजूद लोगों ने आरोपी युवक को पकड़ लिया और पुलिस को सूचना दी, सूचना पर पुलिस ने युवक को हिरासत में लेकर युवती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था।

आज रुड़की स्थित एसपी देहात कार्यालय पर एसपी देहात परमेन्द्र सिंह डोभाल ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी युवक ने युवती की हत्या की है, आरोपी युवक ने पुलिस पूछताछ में बताया कि युवती के परिजन उनकी शादी के खिलाफ थे और उसकी प्रेमिका भी परिजनों के फैसले के साथ थी, इसी बात से नाराज प्रेमी ने प्रेमिका की हत्या को अंजाम दिया और उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए सूटकेस में रखकर गंगनहर में फेंकने जा रहा था।

झूठी निकली आत्महत्या की कहानी….

आरोपी युवक को जब लोगो ने पकड़ा तो उसने झूठी कहानी गढ़ी, शुरुआत में उसने बताया था कि वह दोनो आत्महत्या करने के लिए आए थे लेकिन युवती ने जहर खा लिया और वह उसके शव को गंगनहर में डालकर खुद भी गंगनहर में आत्महत्या करने जा रहा था।

झूठ पर झूठ बोलता रहा आरोपी…

युवक ने पूरी प्लानिंग के साथ वारदात को अंजाम दिया था, पहले ही सूटकेस लाया गया था, और युवती की काजल नामक फर्जी आईडी होटल पर जमा कराई थी। जबकि मृतका कस नाम रेशमा था और वह मंगलौर की रहने वाली थी।