22 views 4 sec 0 Comment

Roorkee: सड़क निर्माण के नाम पर हो रही सरकारी धन की बंदरबांट,ग्रामीणों ने जताया विरोध

- April 6, 2022

Roorkee: सड़क निर्माण के नाम पर हो रही सरकारी धन की बंदरबांट,ग्रामीणों ने जताया विरोध

रिपोर्ट: सलमान मलिक

सरकारी धन को किस तरह ठिकाने लगाया जाता है इसका अंदाजा नारसन ब्लॉक के लिब्बारेहड़ी गाँव मे बन रही इंटर लौकिक सड़क को देखकर आसानी से लगाया जा सकता है। यूं तो ग्रामीणों की समस्या को देखते हुए इस सड़क का निर्माण कराया जा रहा है लेकिन ग्रामीणों का आरोप है कि सड़क निर्माण मात्र अधिकारियों और ठेकेदारों की जेबें गर्म करने के उद्देश्य से हो रहा है, ग्रामीणों ने एक सुर में सरकारी धन के बंदरबांट का आरोप लगाते हुए निर्माण को नियमविरुद्ध बताया और अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया। वही जब इस बारे में सम्बंधित अधिकारी से जानना चाहा तो उन्हें कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया और मीटिंग में जाने की बात कहते हुए रफूचक्कर हो गए।

लिब्बारेहड़ी में लाखों की लागत से इंटर लौकिक टाइल्स सड़क का निर्माण किया जा रहा

आपको बता दे मंगलौर क्षेत्र के नारसन ब्लॉक में पड़ने वाले गाँव लिब्बारेहड़ी में लाखों की लागत से इंटर लौकिक टाइल्स सड़क का निर्माण किया जा रहा है। आनन फानन में हो रहे घटिया निर्माण की शिकायत पर जब मीडिया कर्मी मौके पर पहुँचे तो ग्रामीणों ने सारा माजरा बताया। ग्रामीणों का आरोप है कि सड़क निर्माण के दौरान घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा है, साथ ही सड़क बिछाने से पहले जो कच्चा बेस बनाया जाता है उसे भी नही बनाया गया और कूड़ा करकट पर ही बिना सफाई किए टाइल्स बिछाई जा रही है। ग्रामीमो ने बताया इस मार्ग पर भारी वाहन भी गुजरते है ऐसे में ये सड़क चंद दिनों की ही मेहमान रहेगी। ग्रामीणों के आरोपो का जवाब लेनी जब ब्लॉक अधिकारी के पास मीडिया कर्मी पहुँचे तो महाशय मीटिंग में जाने की बात कहते हुए रफूचक्कर हो गए।

सरकारी धन को जनता की सुविधा के लिए खर्च किया जाता

अब सवाल ये उठता है कि सरकारी धन को जनता की सुविधा के लिए खर्च किया जाता है लेकिन लालची और स्वार्थित अधिकारियों के चलते सरकारी पैसे की बंदरबांट तो होती ही है साथ ही जनता को भी समस्याओं से निजात नही मिल पाती, बड़ी बात ये है कि अधिकारियों की लापरवाही उजागर होने के बाद भी सम्बंधित विभाग कुम्भकर्णी नींद सोया रहता है और बंदरबांट का मामला यूं ही जारी रहता है।