27 views 1 sec 0 Comment

अनिल कुमार बोले अरविन्द केजरीवाल, सत्येंद्र जैन को तुरंत प्रभाव से मंत्री पद और विधानसभा से बर्खास्त करें

- June 7, 2022

अनिल कुमार बोले अरविन्द केजरीवाल, सत्येंद्र जैन को तुरंत प्रभाव से मंत्री पद और विधानसभा से बर्खास्त करें

रिपोर्ट: जगजीत सिंह

नई दिल्ली, 7 जून, 2022 – दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल के ईमानदार व्यक्तित्व और उनके भ्रष्ट मंत्रियों, विधायकां के गुट में शामिल नेताओं का खुलासा हो रहा है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल के सबसे भरोसेमंद सत्येन्द्र जैन हवाला कारोबार और पार्टी का गैर कानूनी लेन-देन के चलते पुलिस हिरासत में है, सत्येन्द्र जैन और उनके सहयोगी हवाला कारोबारी के घर से तलाशी के बाद 2.82 करोड़ नकद मिले है जबकि 1.80 किलोग्राम सोना और 133 सोने के सिक्के मिले है, जो एक बडे़ भ्रष्टाचार की ओर ईशारा कर रहा है।

सत्येन्द्र जैन को मंत्री पद बर्खास्त करें

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से मांग की कि वे तुरंत प्रभाव से सत्येन्द्र जैन को मंत्री पद बर्खास्त करें। उन्होंने कहा कि सत्येन्द्र जैन की गिरफ्तारी तो अभी झांकी है, शराब माफिया के मिलीभगत कर हजारों करोड़ का भ्रष्टाचार और डीटीसी के घोटाले में संलिप्त मनीष सिसोदिया और कैलाश गहलोत का जेल जाना बाकी है। उन्हांने कहा कि आम आदमी पार्टी सरकार के 80 प्रतिशत मंत्री और 38 विधायक अपराधिक मामलों में दोषी पाए गए है, उनके कारनामें भी जल्द ही दिल्ली की जनता के सामने उजागर होंगे। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल पहले ऐसे मुख्यमंत्री है जो भ्रष्टाचारियों को गद्दार घोषित करने की बात तो सार्वजनिक तौर पर कहते है परंतु जब अपने मंत्रियां विधायकों पर भ्रष्टाचार साबित होता है उन्हें देशभक्ती का दर्जा देकर सामने आकर बचाने की भूमिका निभाते है।

क्या सत्येन्द्र जैन के घर पर मिला खजाना और सिक्कां की खनक की केजरीवाल के कान गवाह है

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि क्या सत्येन्द्र जैन के घर पर मिला खजाना और सिक्कां की खनक की केजरीवाल के कान गवाह है, क्योंकि सत्येन्द्र जैन उनके सबसे विश्वसनीय मंत्री थे जो सभी प्रकार का लेन-देन देखते थे। उन्होंने कहा कि केजरीवाल का जितेन्द्र तौमर की नकली डिग्री पर यही स्टेंड था परंतु सबूत मिलने के बाद तोमर को जेल जाना पड़ा। उन्होंने कहा कि केजरीवाल के कोहिनूरों की यदि जांच निष्पक्षता से हो तो वह दिन दूर नही जब आम आदमी पार्टी के आधे से अधिक मंत्री, विधायक जेल की सलाखों के पीछे होंगे।