10 views 5 sec 0 Comment

बरेली: तारपीन तेल की फैक्टरी में लगी भीषण आग,उत्तराखंड से आई फायर ब्रिगेड की गाड़ियां

- February 22, 2022

बरेली: तारपीन तेल की फैक्टरी में लगी भीषण आग,उत्तराखंड से आई फायर ब्रिगेड की गाड़ियां

रिपोर्ट-सोनू अंसारी

यूपी-उत्तराखंड बॉर्डर पर बसे गाव मुड़िया के जंगल में स्थित पाठक ऑयल फैक्टरी में देर रात आग लग गई। इस फैक्टरी में तारपीन का तेल बनाया जाता है। आग से फैक्टरी का बॉयलर और वहां रखा 50 हजार लीटर तेल जल गया। बरेली के अलावा उत्तराखंड से भी फायर ब्रिगेड की कई गाड़ियां आग बुझाने पहुंचीं। दोनों प्रदेशों की पुलिस भी मुस्तैद रही। देर रात तक आग पर काबू पाने की मशक्कत जारी रही।

फैक्टरी में तारपीन का तेल बनाया जाता है

मुड़िया गांव के जंगल में बनी पाठक आयल फैक्टरी में सोमवार रात करीब पौने 11 बजे अचानक आग लग गई। फैक्टरी में तारपीन का तेल बनाया जाता है। बताया जाता है कि पहले तेल से भरे एक ड्रम में आग लगी, जो कुछ ही देर में फैक्टरी में फैल गई। ज्वलनशील तेल होने के कारण कुछ ही देर में आग ने विकराल रूप ले लिया। सूचना पर बहेड़ी, बरेली, मीरगंज से फायर ब्रिगेड की गाड़ियां आग बुझाने के लिए मौके पर पहुंच गईं। इसी बीच फैक्टरी का बायलर भी आग की चपेट में आने से जलकर खाक हो गया।

आग इतनी विकराल थी कि कई फुट ऊंची लपटें दूर से दिखाई पड़ रही थीं

आग इतनी विकराल थी कि कई फुट ऊंची लपटें दूर से दिखाई पड़ रही थीं। यह सूचना उत्तराखंड के पुलभट्टा थाने पहुंची तो वहां का फोर्स भी मौके पर पहुंच गया। रात करीब साढे़ 12 बजे रुद्रपुर से फायर ब्रिगेड की दो गाड़ियां पहुंच गईं और आग बुझाने के प्रयास शुरू कर दिए। मगर आग ने पूरी फैक्टरी को चपेट में ले लिया। कुछ ही देर में फैक्टरी के आसपास का पूरा आसमान काले धुआं से भर गया।

50 हजार लीटर तारपीन का तेल ड्रमों में भरा रखा था

फैक्टरी में जब आग लगी तो उस समय वहां पर 50 हजार लीटर तारपीन का तेल ड्रमों में भरा रखा था। उनमें आग लगने के बाद ड्रम फटने शुरू हुए तो वहां धमाके होने लगे। फैक्टरी के कर्मचारी राजीव ने बताया कि आग लगते ही सभी कर्मचारी वहां से दूर तक हटा दिए गए थे इस वजह से कोई हताहत नहीं हुआ। एसडीएम पारुल तरार ने बताया कि मौके पर दमकल कर्मी आग बुझाने में जुटे हैं।

दर्जन भर से ज्यादा दमकल वाहन पहुंचे – घटना की सूचना पर सबसे पहले बहेड़ी से एक दमकल वाहन मौके पर पहुंचा लेकिन उसके विकराल होने पर पूरे जिले से गाड़ियां वहां मंगा ली गईं। उत्तराखंड की गाड़ियां भी लगी हुई थीं। इस तरह दर्जन भर से ज्यादा वाहन देर रात तक फैक्टरी की आग बुझाने में जुटे हुए थे। रात एक बजे तक आग बुझ नहीं सकी थी

फैक्टरी में आग लगने के बाद वहां दहशत का माहौल बन गया

फैक्टरी में आग लगने के बाद वहां दहशत का माहौल बन गया। वहां से कुछ दूरी पर तीन लोगों के घर बने हुए हैं। जब वहां आग लगी तो लोग अपने घर छोड़कर भाग गए। लोगों ने बताया कि फैक्टरी के मालिक पुष्कर पाठक हैं, जो अल्मोड़ा के रहने वाले हैं। आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट होना बताया जा रहा है लेकिन अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है