16 views 3 sec 0 Comment

CM योगी के निर्देश के बाद नगर निगम ने भी सरकारी जमीनों से कब्जे हटाने की कार्रवाई की शुरू

- May 23, 2022

CM योगी के निर्देश के बाद नगर निगम ने भी सरकारी जमीनों से कब्जे हटाने की कार्रवाई की शुरू

रिपोर्ट: सलमान मलिक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद नगर निगम ने भी सरकारी जमीनों से कब्जे हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी है। जिसके बाद नगर निगम की टीम ने शहर के पॉश इलाके डीडी पुरम में स्थित करोड़ों रुपए की जमीन को कब्जा मुक्त कराया। इस दौरान वहां पर कई थानों की पुलिस भी मौजूद रहे। वहीं कुष्ठ आश्रम में रह रहे लोगों की नगर निगम कर्मचारियों और पुलिसकर्मियों से जमकर नोकझोंक भी हुई। वहीं कुछ महिलाएं बुलडोजर के ऊपर चढ़ गई।

के प्रेम नगर थाना क्षेत्र में स्थित डीडी पुरम इलाके में कुष्ठ आश्रम की 9740 वर्ग मीटर जमीन पर कुछ लोगों ने अवैध कब्जा कर रखा था अब जब मुख्यमंत्री के निर्देश हैं कि स्ट्रीट वेंडर्स को जगह दी जाए और पार्किंग बनाई जाए तो उसी के लिए नगर निगम ने अब इस जमीन से कब्जे हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी है। नगर निगम की टीम ने पुलिस की मौजूदगी में बुलडोजर चलाकर जमीन को कब्जा मुक्त कराया है। अपर नगर आयुक्त अजीत कुमार सिंह के नेतृत्व में यह पूरा अभियान चलाया गया। जैसे ही बुलडोजर मौके पर पहुंचा तो कुष्ठ आश्रम में मौजूद महिलाएं और पुरुष डंडा लेकर पहुंच गए और बुलडोजर पर चढ़ गए। इस दौरान पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। वहीं एक युवक को पुलिस उठा कर थाने ले आई।कुष्ठ आश्रम की महिलाओं और पुरुषों ने हाथों में डंडा और पत्थर लेकर पुलिस और नगर निगम की टीम को दौड़ा दिया, जिसके बाद पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा।

अपर नगर आयुक्त अजीत कुमार सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश हैं कि रोड सेफ्टी के तहत जितने भी अवैध पार्किंग है और जो सड़क किनारे स्ट्रीट वेंडर्स है उनको हटाया जाए और उनको सही स्थान उपलब्ध कराया जाए। इसी के तहत डीडीपुरम की इस बेशकीमती जमीन पर पार्किंग बनाई जाएगी और स्ट्रीट वेंडर्स को भी जगह दी जाएगी। कुछ लोगों ने कुष्ठ आश्रम के लोगों को भड़काकर उन्हें सामने रखा और उन्होंने हंगामा करवाया। समझाने के बाद कुष्ठ आश्रम के लोग यहां से चले गए। वहीं जिन लोगों ने सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का कार्य किया है उनको पुलिस के चिन्हित कर रही है और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि यहीं पर एक कुष्ठ आश्रम भी है जो नगर निगम की जमीन पर बना हुआ है और यह जमीन कुष्ठ आश्रम के बराबर में खाली पड़ी हुई है जिस जमीन को कुष्ठ आश्रम के लोग इस्तेमाल करते है। इस जमीन पर वो खेती करके सब्जियां और अन्य इस्तेमाल की चीजों की खेती करते है। इसके अलावा भू माफियाओं की नजर भी इस जमीन पर पड़ी हुई थी।