63 views 4 sec 0 Comment

Roodkee: एक साथ तीन मगरमच्छ दिखाई देने से ग्रामीणों में दहशत, वन विभाग से की रेस्क्यू की मांग

- February 12, 2024
Roodkee: एक साथ तीन मगरमच्छ दिखाई देने से ग्रामीणों में दहशत, वन विभाग से की रेस्क्यू की मांग

Roodkee: एक साथ तीन मगरमच्छ दिखाई देने से ग्रामीणों में दहशत, वन विभाग से की रेस्क्यू की मांग

Report: Salmaan malik 

रुड़की से सटे तेली वाला गाँव के तालाब में एक साथ तीन मगरमच्छ दिखाई देने से ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है, जिससे ग्रामीण अपने बच्चों को घरों से बाहर भी निकलने नहीं दे रहे हैं, दरअसल करीब डेड वर्ष पूर्व भी बरसात के मौसम में इसी तालाब में तीन मगरमच्छ दिखाई दिए थे, जिसके बाद वन विभाग की टीम द्वारा रेस्क्यू कर एक मगरमच्छ को पकड़ लिया गया था और दूर नदी में छोड़ दिया गया था, ग्रामीणों की माने तो अब फिर से तीन मगरमच्छों ने इस तालाब में डेरा डाल रखा है जिससे ग्रामीण बेहद ही खौफ जदा हैं, हालांकि ग्रामीणों ने तालाब में मगरमच्छ होने की जानकारी वन विभाग को दे दी है।

तालाब में उन्हें एक साथ तीन मगरमच्छ दिखाई दिए

बता दें की रूड़की स्थित पाडली गुर्जर नगर पंचायत के तेली वाला गाँव में एक तालाब है, इस तालाब में पूरे गांव का पानी आकर गिरता है, ग्रामीणों की माने तो इस तालाब में उन्हें एक साथ तीन मगरमच्छ दिखाई दिए हैं जिससे ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है, ग्रामीण अपने बच्चों को घरों से बाहर भी निकलने नहीं दे रहे हैं, वहीं करीब डेड वर्ष पूर्व भी बरसात के मौसम में यहां पर भारी संख्या में जल भराव की समस्या हो गई थी और उस समय भी इस तालाब में तीन मगरमच्छ ग्रामीणों को दिखाई दिए थे,

मगरमच्छों का रेस्क्यू कर एक मगरमच्छ को पकड़ लिया था

इसके बाद वन विभाग की टीम ने मगरमच्छों का रेस्क्यू कर एक मगरमच्छ को पकड़ लिया था और दूर नदी में छोड़ दिया गया था, वहीं अब डेड वर्ष बाद इसी तालाब में तीन मगरमच्छ ग्रामीणों को दिखाई दिए हैं जिन में एक बड़ा मगरमच्छ है और दो उसके बच्चे हैं, ग्रामीणों का कहना है कि उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को तालाब में मगरमच्छ होने की जानकारी दे दी है, ग्रामीणों के मुताबिक वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि तालाब में घास ज्यादा है जिससे मगरमच्छों का रेस्क्यू नहीं किया जा सकता, वन विभाग के अधिकारियों ने नगर पंचायत के अधिकारियों को अवगत कराया है कि तालाब से घास की सफाई कराई जाए इसके बाद मगरमच्छों का रेस्क्यू किया जा सकेगा।