16 views 7 sec 0 Comment

कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत में आज मनाई गई होली, कोरियाई लोगो ने सीखा भारतीय पारम्परिक मिठाई ‘गुजिया’ बनाना

- March 22, 2024
कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत में आज मनाई गई होली, कोरियाई लोगो ने सीखा भारतीय पारम्परिक मिठाई 'गुजिया' बनाना

कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत में आज मनाई गई होली, कोरियाई लोगो ने सीखा भारतीय पारम्परिक मिठाई ‘गुजिया’ बनाना

रिपोर्ट: जगजीत सिंह

20 मार्च 2024, नई दिल्लीः कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत ने दिल्ली में होली समारोह का आयोजन किया जिसमे केंद्र के स्टाफ और छात्रों ने हिस्सा लिया। आयोजन में एक तरफ होली के रंग बिखरे तो दूसरी तरफ सभी गुजिया मिठाई का भरपूर लुफ्त उठाते दिखे| दो प्रशिक्षित शेफ उमेश चौधरी और किशन ने सभी को भारतीय मिठाई ‘गुजिया’ बनाना सीखाया।

होली समारोह में भारतीय और कोरियाई गीतों पर सभी थिरकते और गुलाल लगते दिखे| उत्साह की स्पष्ट भावना थी क्योंकि कई कोरियाई नागरिक पहली बार होली खेल रहे थे। सभी ने “रंग बरसे” और “बलम पिचकारी” जैसे लोकप्रिय होली गीतों पर नृत्य किया। समारोह में कोरियाई रंग जोड़ने के लिए, साई के “गंगनम स्टाइल” और कलाकार साई और सुगा के “दैट दैट” जैसे गाने भी बजाए गए और उन पर नृत्य किया गया।

इस खुशी के अवसर पर केंद्र के कोरियाई भाषा सीखने वाले 25 छात्र, 6 कोरियाई भाषा व्याख्याताओं, 5 कोरियाई स्टाफ और 8 भारतीय स्टाफ ने भी रंगों के त्योहार को बहुत उत्साह के साथ मनाया।

रंगारंग कार्यक्रम के बाद सभी प्रतिभागियों को आठ समूहों में विभाजित किया गया और सभी ने साथ मिलकर गुजिया बनाई। प्रतिभागियों को पहले होली के त्योहार के महत्व के बारे में समझाया गया और होली उत्सव के दौरान ‘गुजिया’ बनाने की पारंपरिक प्रथा के बारे में बताया गया। उसके बाद शेफ ने प्रतिभागियों के लिए एक लाइव प्रदर्शन किया और ‘गुजिया’ बनाने में इस्तेमाल होने वाले प्रत्येक घटक के महत्व को समझाया।

कार्यक्रम के दौरान कुल 300 ‘गुझिया’ तैयार की गईं और सभी ने गर्मागर्म ‘गुजिया’ का आनंद लिया और होली के अद्भुत अवसर का जश्न मनाया। बाद में दिन में, भारतीय संस्कृति के प्रति सम्मान के प्रतीक के रूप में, डलग्रेक कैफे द्वारा कैफे में भोजन करने आए आगंतुकों को लगभग 100 ‘गुझिया’ भी मुफ्त में परोसी गईं।

कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत के निदेशक ह्वांग इल योंग ने कहा, “होली एक बहुत ही जीवंत त्योहार है और इसे आज कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत में सभी छात्रों और कर्मचारियों के रंगीन चेहरों को देखकर देखा जा सकता है।

 

“गुजिया होली के उत्सव का एक बहुत ही आवश्यक तत्व है और इसलिए कोरियाई सांस्कृतिक केंद्र भारत ने भारतीय मिठाई तैयार करने का फैसला किया। होली मनाकर, हम भारत के प्रति अपना गहरा सम्मान दिखाना चाहते हैं और भारतीय संस्कृति के बारे में सीखना चाहते हैं, ”श्री ह्वांग ने कहा।”