9 views 1 sec 0 Comment

हेड कॉन्स्टेबल का फोन हैक कर की साइबर ठगी

- April 4, 2024
हेड कॉन्स्टेबल का फोन हैक कर की साइबर ठगी

हेड कॉन्स्टेबल का फोन हैक कर की साइबर ठगी

-क्रेडिट कार्ड के रिवॉर्ड प्वॉइंट रिडीम करवाने का झांसा देकर की वारदात
-पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर की

दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल से साइबर ठगी का मामला सामने आया है। पुलिसकर्मी का आरोप है कि साइबर ठग ने उनका फोन हैक कर करीब पौने 2 लाख रुपये दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर लिए। आरोपी ने क्रेडिट कार्ड के रिवॉर्ड प्वॉइंट रिडीम करवाने का झांसा देकर वारदात को अंजाम दिया। द्वारका जिले की साइबर पुलिस ने पीड़ित के बयान पर धोखाधड़ी का केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

पुलिस सूत्र ने बताया, 41 वर्षीय पीड़ित पुलिसकर्मी नजफगढ़ इलाके में रहते हैं। वह दिल्ली पुलिस में बतौर हेड कॉन्स्टेबल कार्यरत हैं। इन दिनों तैनाती दिल्ली पुलिस की रेलवे यूनिट के एक सेल में है। 9 अगस्त 2023 को वह ऑफिस में काम कर रहे थे। उसी दौरान एक अनजान नंबर से उनके पास कॉल आई। कॉलर ने खुद को एक्सिस बैंक का कर्मचारी बताया। साथ ही कहा उनके एक्सिस क्रेडिट कार्ड पर करीब 15 हजार रिवॉर्ड पॉइंट पड़े हैं। उन्हें रिडीम करने के लिए आरोपी ने उन्हें एक वेबसाइट पर जाकर ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा। पुलिसकर्मी ने पॉइंट लेने के लिए ऐप डाउनलोड कर ली। कुछ देर बाद उनके फोन पर मेसेज आया वेट, इसके कुछ देर बाद एक और मेसेज आया। उसमें क्रेडिट कार्ड का नया पासवर्ड जनरेट होने की बात कही गई थी। जिससे पुलिसकर्मी को शक हुआ। उन्होंने फौरन नेट बैंकिंग पर जाकर अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट 50 हजार से 5 हजार रुपये कर दी। हैरानी की बात यह रही कि लिमिट घटाने के बावजूद ठग ने तीन ट्रांजेक्शन में 1,73,445 रुपये दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर लिए।

क्या कह रहे हैं साइबर एक्सपर्ट

साइबर यूनिट में तैनात पुलिस सूत्र का कहना है, जिस वेबसाइट पर जाकर ठग ने पुलिसकर्मी से डाउनलोड करवाई, वो वेबसाइट ठगों की होगी। वहां से जो ऐप डाउनलोड किया गया है, उसके जरिए उन्होंने पुलिसकर्मी का फोन हैक कर लिया है। इसलिए लिमिट घटाए जाने के बाद भी आरोपियों ने रुपये ट्रांसफर कर लिए। क्योंकि उनके पास पीड़ित के सारे पासवर्ड आदि भी थे, उन्होंने वापस लिमिट बढ़ा ली होगी।