45 views 3 sec 0 Comment

शाहदरा साउथ जोन का कार्यालय पूर्वी दिल्ली नगर निगम के मुख्यालय की बिल्डिंग में किया जायेगा शिफ्ट

- June 17, 2022

शाहदरा साउथ जोन का कार्यालय पूर्वी दिल्ली नगर निगम के मुख्यालय की बिल्डिंग में किया जायेगा शिफ्ट

रिपोर्ट: रवि डालमिया

दिल्ली नगर निगम के शाहदरा साउथ जोन का कार्यालय को पूर्वी दिल्ली नगर निगम के मुख्यालय की बिल्डिंग में शिफ्ट किया जाएगा , दिल्ली नगर निगम के कमिश्नर की मंजूरी के बाद कार्यालय को शिफ्ट करने का कार्य शुरू कर दिया गया है.

आपको बता दें कि दिल्ली नगर निगम के तीन भागों में बांटने के बाद से पूर्वी दिल्ली नगर निगम का मुख्यालय पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया में मौजूद डीएसआईडीसी के बिल्डिंग में बनाया गया था, बदले में निगम ने लाजपत नगर की बिल्डिंग एक बिल्डिंग को डीएसआईडीसी को दिया था.

दिल्ली नगर निगम के एक बार फिर एकीकरण के बाद निगम मुख्यालय सिविक सेंटर हो गया है . ऐसे में पूर्वी दिल्ली नगर निगम का मुख्यालय रहा पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया की बिल्डिंग खाली हो गई है.

इसी को देखते हुए विश्वास नगर इलाके में स्थित शाहदरा साउथ जोन के निगम कार्यालय को पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया की खाली बिल्डिंग में शिफ्ट करने का फैसला लिया गया है.

यह फैसला नगर निगम की आर्थिक स्थिति के साथ निगम अधिकारी, कर्मचारी और निगम क्षेत्र में रहने वाले लोगों की सहूलियत को ध्यान में रखकर लिया गया है.

शाहदरा साउथ जोन की मौजूदा बिल्डिंग में जगह की काफी कमी है, निगम अधिकारियों को भी ढंग से बैठने की जगह नहीं है . हालांकि उसके पास ही शाहदरा साउथ जोन की नई बिल्डिंग का निर्माण कराया जा रहा है. जिसका निर्माण कार्य आखिरी दौर में है , लेकिन अब इस बिल्डिंग को निगम ने किराए पर देने का फैसला लिया है ताकि निगम की आर्थिक स्थिति को ठीक किया जा सके साथ पटपड़गंज में खाली हुई बिल्डिंग का इस्तेमाल भी किया जा सके .

शाहदरा साउथ जोन की डिप्टी कमिश्नर वंदना राव ने बताया कि गुरुवार से शिफ्टिंग का काम शुरू हो जाएगा और आने वाले कुछ दिनों में शाहदरा साउथ जोन का कार्य पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया की बिल्डिंग में शुरू हो जाएगा इसके साथ ही अलग-अलग इलाके में चल रहे निगम के सभी कार्यालय को इसी बिल्डिंग में शिफ्ट किया जाएगा ताकि जनता को एक ही जगह पर सभी सुविधाएं मिले और उन्हें भटकना नहीं पड़े.वंदना राव ने बताया कि शाहदरा साउथ जोन की मौजूदा बिल्डिंग और नई बनाई जाने वाली बिल्डिंग का कमर्शियल इस्तेमाल किया जाएगा ताकि निगम का आर्थिक स्रोत बढ़ाया जा सके