19 views 0 sec 0 Comment

रूड़की: तेज हवा बारिश से किसानों के माथे पर पडी चिंता की लकीरें

- March 4, 2024
रूड़की: तेज हवा बारिश से किसानों के माथे पर पडी चिंता की लकीरें

रूड़की: तेज हवा बारिश से किसानों के माथे पर पडी चिंता की लकीरें

रिपोर्ट: सलमान मलिक

तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही है तेज हवाओं से खेतों पर खड़ी गेहूं वे सरसों की फसल पूरी तरह गिर जाने से किसनो को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है किसानों ने बताया कि एक बीघा जमीन में लगभग पांच कोटल गेहूं की पैदावार हो जाती थी मगर इस बार फसल पूरी तरीके गिर गई है इसीलिए अब एक कोटल गेहूं निकलना भी बहुत मुश्किल है

कुछ दिन पहले हुई ओलावृष्टि की मार किसान अभी झेल कर संभाल भी

कुछ दिन पहले हुई ओलावृष्टि की मार किसान अभी झेल कर संभाल भी नहीं नहीं पाया था कि देर रात तेज हवा और बारिश बारिश से किसानों के माथे पर फिर चिंता की लकीरें पड गयी है जो किसान सब्जी की फसल की खेती करते है उन्होने बताया की सब्जी की फसल भी पूरी तरह खराब हो गई थी वही देर रात तेज हवाएं और बारिश से गेहूं और सरसों की फसल गिर जाने से किसानों को भारी नुकसान है उन्होंने कहा कि हम छोटे किसान हैं हमारा पूरा परिवार कृषि के ऊपर ही निर्धारित है पूरे साल का खाना पीना इस खेती की फसल से ही होता है ऐसे में हमें अब यह चिंता सता रही है कि आगे हम अपने बच्चों का पालन पोषण कैसे करेंगे