19 views 10 sec 0 Comment

प्रेस वार्ता के दौरान कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने विपक्ष पर जमकर साधा निशाना

- May 16, 2024

प्रेस वार्ता के दौरान कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने विपक्ष पर जमकर साधा निशाना

दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष में आज यानि 16 मई को प्रेस वार्ता रखी गई। जहां कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने देश में महंगाई और बेरोज़कारी के मुद्दे पर बात की। जहां उन्होंने 2014 से अब तक यानी बीजेपी के आने से किन-किन चीजों के दामों में वृद्धि हुई है। यह बताया और बीजेपी पर जम कर निशाना साधते हुए यह नारा भी दिया की मोदी ये बताएं, महंगाई ने खून के आसूं क्यों रुलाए। वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने महा लक्ष्मी योजना का भी जिक्र किया।

सत्ता के चमचमाते सिंहासन पर बैठे नरेन्द्र मोदी का कोई सरोकार नहीं, कोई लेना-देना नहीं । एक तरफ़ तो बहन-बेटियों को ‘लाड़ली’ कहते हैं और दूसरी तरफ़ महंगाई की चौतरफ़ा मार सह रही बहन-बेटियों का मज़ाक बनाते हैं। अगर घर में खाना कम बने तो वो घर की महिला ही है जो एक रोटी कम खाती है, बिना सब्जी के खाती है, पहले और परिवार जनों का पेट भरती है। खाना न बचे तो पानी पी कर ही सो जाती है। उस बहन-बेटी के आंसू की कोई कीमत नहीं मोदी जी और भाजपा सरकार के लिए।

UPA कार्यकाल में जिस महंगाई को ‘डायन’ कहते थे, आज उसे ‘डार्लिंग’ बना कर, गले में हाथ डाले घूम रहे हैं। सूरत-ए-हाल ये है कि आज लोगों के पास थाली है तो खाना नहीं, डिग्री है तो नौकरी नहीं, वाहन है तो पेट्रोल-डीज़ल नहीं, सिलेंडर है तो LPG गैस नहीं, शौचालय है तो पानी नहीं, जीवन है पर सुख नहीं चैन नहीं। और जले पर नमक रगड़ने के लिए मोदी जी इसे ‘अच्छे दिन’ और ‘अमृतकाल’ बताते हैं।

एक कांग्रेस का शासन था जब बटुए में पैसा ले कर जाते थे और थैला भर सामान ले कर आते थे और अब भाजपा के शासन में वो समय आ ही गया जब थैले में पैसा ले कर जाएँ और बटुए में सामान लाएँ। मुझे याद है कि मोदी जी ने कहा था चीन को लाल आँख दिखाएँगे और 250₹ किलो तक पहुँच कर टमाटर जनता को लाल आँख दिखा रहा था। 80-100₹ किलो प्याज जनता को खून के आँसू रुला रही थी।

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने तो प्याज की बढ़ती कीमतों से पल्ला झाड़ते हुए कह दिया था कि “मैं तो प्याज नहीं खाती” यानि प्याज महंगी हो तो जनता प्याज खाना छोड़ दें। इसी तर्ज़ पर पेट्रोल-डीज़ल सेन्चुरी लगाए तो तो बैलगाड़ी चलाने लगें। LPG सिलेंडर 1100/- का हो जाए तो चूल्हा फूंकने लगें। 2 करोड़ नौकरी जुमला साबित हो तो नाली की गैस से पकोड़ा तलने लगें। वैसे जानकारी के लिए बता दूं कि पकौड़े तलने का तेल भी 240₹ लीटर है। मोदी जी ने तो नौजवानों को इस लायक भी नहीं छोड़ा ! अभी मोदी जी मंगलसूत्र की बात कर रहे थे। जब सोना 75,000 रुपए तोला कर दिया है। मोदी जी ने तो कितनी माँ बहन सोने का मंगलसूत्र बनवा पा रही है। अब बताइए कौन किसका मंगलसूत्र छीन रहा है?