10 views 3 sec 0 Comment

ऊपर कूड़े का ढेर, नीचे खुलेआम होता है जिस्मफरोशी का खेल

- April 13, 2022

ऊपर कूड़े का ढेर, नीचे खुलेआम होता है जिस्मफरोशी का खेल

कड़कड़ी मोड़ के पास नाले के ऊपर है कूड़ा घर, कार्रवाई में सीमा विवाद भी समस्या

 

यमुनापार में कड़कड़ी मोड़ के पास नाले के ऊपर बना कूड़ा घर पुलिस के लिए सिर दर्द बना हुआ है। परेशानी का कारण कूड़ा नहीं, बल्कि यहां हो रहे गलत धंधे हैं। दरअसल, यहां जिस्मफरोशी से लेकर लूटपाट तक होती हैं। शिफ्ट के हिसाब से महिलाओं से लेकर ट्रांसजेंडर्स का झुंड खड़ा रहता है। ऊपर सड़क से नीचे ग्राहकों को ले जाया जाता है। मजे की बात यह है कि आपराधिक तत्व भी भी पुलिस की क्षेत्र सीमा से पूरी तरह वाकिफ हैं। पुलिस उन्हें पकड़ने पहुंचती है तो उन्हें उल्टा उनका क्षेत्र न होने का पाठ पढ़ा देते हैं। ऐसे में पुलिस चाहकर भी कोई कार्रवाई नहीं कर पाती है।

नाले के पास की जगह फ्लड डिपार्टमेंट की है

पुलिस सूत्रों ने बताया कि कड़कड़ी मोड़ के पास फ्लड डिपार्टमेंट का नाला है। नाले के पास की जमीन से लिंटर डालकर ऊपर रोड पर कूड़ा घर बनाया हुआ है। कूड़ा घर ईस्ट एमसीडी का है। नाले के पास की जगह फ्लड डिपार्टमेंट की है। पुलिस के हिसाब से यह क्षेत्र थाना आनंद विहार में आता है। मगर पटरी पार करते ही पटपड़गंज की ओर जाने वाली जो मुख्य सड़क है वो प्रीत विहार थाने में आती है। थाना ही नहीं बल्कि डिस्ट्रिक्ट ही बदल जाता है। इसी का फायदा आपराधिक तत्व उठा रहे हैं। दरअसल, प्रीत विहार पुलिस गलत काम करने वालों को पकड़ने पहुंचती है तो आरोपी नीचे नाले के पास उतर जाते हैं और कहते हैं कि यह इलाका आनंद विहार में आता है तुम्हारे थाने में नहीं। मजबूरन पुलिस को वापस लौटना पड़ रहा है।

ऐसे लग रही शिफ्ट

बताया जा रहा है कि यहां सुबह 10 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक 6-7 महिलाएं खड़ी होती हैं। वह 200 से 300 रुपये लेकर देह व्यापार करती हैं। ऊपर से गुजरने वाले लोग अड्डे से पूरी तरह वाकिफ हैं। यही नहीं, फ्लाइओवर से गुजरने वाले भी वहां रुककर नीचे का नजारा देखते हैं। शाम 7 बजे के बाद वहां ट्रांसजेंडर्स का झुंड आ जाता है। वह भी यही गंदा काम करते हैं। रात के समय किसी ग्राहक से रुपयों को लेकर बात बिगड़ जाती है तो उनसे लूटपाट भी की जाती है। यहां से अक्सर लूटपाट की पुलिस कॉल जाती है। मगर पीड़ित ही बाद में बदनामी के कारण लिखित शिकायत नहीं देते हैं। यही कारण है कि पुलिस इस अड्डे से काफी परेशान है।

जॉइंट ऑपरेशन से हो सकता है समाधान

पुलिस का कहना है कि फ्लड और एमसीडी डिपार्टमेंट को ढलाव के नीचे खाली जगह को भरना होगा। इसके बाद जाकर ही यह अड्डा खत्म हो सकता है। इसके अलावा आनंद विहार और प्रीत विहार दोनों थानों की पुलिस को एक जॉइंट ऑपरेशन चलाने की जरूरत है।