3 views 0 sec 0 Comment

योग से उपचार पुस्तक का एंग्री मैन पम्मा ने किया विमोचन,बोले ऑनलाइन गेमओं से हटकर बच्चों को योग के साथ जोड़ें

- 4 July 2022

रिपोर्ट: जगजीत सिंह

नई दिल्ली के पश्चिमी क्षेत्र के मोती नगर स्थित ग्रैंड इंपीरियल बैंक्वेट में बच्चों से लेकर सीनियर सिटीजन की भारी उपस्थिति में डॉ मधु शर्मा द्वारा लिखी योग से उपचार पुस्तक का नेशनल अकाली दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष व फेडरेशन ऑफ सदर बाजार ट्रेडर्स एसोसिएशन के चेयरमैन परमजीत सिंह पम्मा ने पुस्तक का विमोचन करते हुए कहा अगर अपने आप को स्वस्थ रखना है तो योग के साथ जुड़ना पड़ेगा क्योंकि हम आए दिन शारीरिक व मानसिक बीमारियों से जूझ रहे हैं।

यहां तक कि अब बच्चे और महिलाएं भी इसका शिकार हो रहे हैं। इसके लिए हमें बच्चों को शुरू से ही योग से जोड़ना पड़ेगा जिससे वह ऑनलाइन गेमओं से हटकर अपने स्वास्थ्य की ओर ध्यान दें जिससे आने वाले समय में हमारे देश के बच्चे स्वस्थ रहें व देश की तरक्की में अपना योगदान देते रहे।

मधु शर्मा ने कहा इस पुस्तक को लिखने की प्रेरणा कोविड के दौरान मिली

इस अवसर पर डॉ मधु शर्मा ने कहा इस पुस्तक को लिखने की प्रेरणा कोविड के दौरान मिली। वह एक भयानक दौर था जिस समय मानव जीवन शारिरिक एवं मानसिक समस्याओं से जूझ रहा था। इस महामारी ने बताया कि स्वस्थ जीवन की धरोहर है।। जैसा कि आप सब जानते हैं की इस भाग दौड़ भरी ज़िंदगी मे स्वस्थ रहने के लिए शारीरिक और मानसिक अनुशासन का एक संतुलन बनाना कितना ज़्यादा ज़रूरी है । इस दुनिया का जो सबसे पहला सुख है.. वो है निरोगी काया । स्वास्थ्य की असली कीमत वही व्यक्ति जानता है जो अनेक व्याधाओं से ग्रसित है । आज के समय मे इंसान एक एक सांस के लिए दवाइयों के ऊपर ही आश्रित है ।

यह पुस्तक योग व प्राकृतिक चिकित्सा के बारे में

डॉ मधु शर्मा ने बताया यह पुस्तक योग व प्राकृतिक चिकित्सा के बारे में जो स्वस्थ जीवन के लिए एक ऐसी प्राचीन भारतीय पद्धति है जिसको जीवन मे अपना लेने के बाद हम एक साथ कई बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं ।

इस अवसर पर विजय भूषण शर्मा , ईशा, अभिषेक,गुरलीन , मोहनलाल चोपड़ा, शशि चोपड़ा,अनु, अनुष्का, वी. एस०.शर्मा, चिंटू, विजया, संस्थापक और निदेशक (Wbtr) नीरू सहगल , संजना बुक शाइनी शर्मा नेशनल अकाली दल से बिंदिया मल्होत्रा रश्मीत कौर बिंद्रा, कुलदीप सिंह मारवाह, अरविंदर सिंह बक्शीप्रमुख समाज सेवीका रेनू लूथरा मोजूद थे।