3 views 1 sec 0 Comment

स्पेशल 26 की तर्ज पर थाने के पीछे की रेड, रुपये कट्टों में भरकर भागने वाले थे

- 4 July 2022

 

  • परिवार को बंधकर बनाकर कई कट्टों में भर लिए थे रुपये
  • मनी एक्सचेंज का कारोबार करने वाले शख्स के घर घुसे थे आरोपी

नगर संवाददाता

शाहदरा में एक संदिग्ध मामला सामने आया है। आरोप है कि पंजाब से आए कुछ लोगों ने एक घर से बड़ी लूट की कोशिश की है। फिल्म स्पेशल-26 की तर्ज पर एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों ने एक तरह से दिल्ली पुलिस को चुनौती दी है। चुनौती इसलिए क्योंकि उन्होंने शाहदरा थाने के ठीक पीछे वाले घर में कारोबारी के यहां एंटी करप्शन की टीम बनकर फर्जी रेड की। परिवार को बंधक बनाया।

घर से कई कट्टों में रुपये भर लिए। लेकिन जब वे सेटिंग करने की बात कहने लगे तो परिवार को शक हो गया। इस पर परिवार ने शोर मचा दिया। करीब 10 आरोपी मौके से फरार हो गए। एक महिला समेत 4-5 आरोपियों को पकड़ लिया गया। सोमवार सुबह खबर लिखे जाने तक घटना को 16 घंटे बीत चुके थे। लेकिन पुलिस अधिकारी इस मामले पर कुछ खुलकर बोलने के लिए तैयार नहीं थे। बताया जा रहा हे कि जिस थाने के पीछे यह वाकया हुआ है, वह वही है जहां कुछ दिन पहले एक युवक ने घुसकर पुलिस वालों पर हमला कर दिया था।

घटना शाहदरा के रहने वाले कमल गुप्ता के यहां हुई। उन्होंने बताया कि उनका मनी एक्सचेंज का कारोबार है। परिवार में पत्नी, बच्चे व अन्य परिजन हैं। रविवार शाम वह घर पर थे। 6 बजे करीब 15 लोगों ने उनके घर पर धावा बोल दिया। आरोपियों ने खुद को पंजाब के एंटी करप्शन डिपार्टमेंट से बताया। परिवार की एक कैंसर पेशेंट समेत सभी लोगों को कमरे में बंद कर दिया। फोन छीन लिए। इसके बाद घर में तलाशी शुरू की। आरोपियों ने कई कट्टों में घर से मिला कैश भर लिया। इसके बाद टीम के कुछ लोग सेटिंग करने की बात कहने लगे। शक होने पर कमल ने शोर मचा दिया। शोर सुनकर उनके पड़ोसी मदद के लिए आ गए। खुद को फंसता देख 10 लोग तो कुछ सामान लेकर फरार हो गए, मगर एक महिला समेत कुछ लोगों को लोगों ने पकड़ लिया। इसके बाद सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस आरोपियों को पकड़कर ले गई।

इसलिए हुआ शक

पीड़ित कमल के मुताबिक, आरोपियों ने न तो कोई नोटिस दिया था, न ही उनके पास सर्च वॉरंट था। परिवार ने आईडी मांगी तो आरोपी बगल झांकने लगे। वह उनसे बस सेटिंग करने की बात कह रहे थे। जब उनसे पूछा कि उनका गुनाह क्या है तो कहने लगे कि हम आपको यह नहीं बताएंगे कि आपने क्या क्राइम किया है। इस पर कमल ने कहा कि जब क्राइम नहीं बताएंगे तो क्या सेटिंग करेंगे। आरोप है कि बदमाशों ने उन्हें असला होने की धमकी दी और मामला सेट करने की बात कहते रहे। शिकायतकर्ता ने कहा कि पुलिस को बुलाओ, इनकम टैक्स वालों को बुलाओ तो उन्होंने किसी को नहीं बुलाया। इस कारण उन्हें आरोपियों पर शक हुआ और उन्होंने शोर मचा दिया।

आखिर किसने की कारोबारी की मुखबिरी

जिस तरह से आरोपियों ने घर के अंदर घुसकर काफी जल्दी कैश कट्टों में भर लिया था, उससे साफ है कि आरोपियों के पास घर में मोटा कैश होने की पूरी जानकारी थी। अब सवाल ये खड़े होते हैं कि क्या कोई रिश्तेदार या जानकार ने आरोपियों को कारोबारी के बारे में टिप दी थी, या यह संभावना है कि कारोबारी के कारोबार से जुड़े किसी जानकार का हाथ है। बहरहाल पुलिस आरापियों से पूछताछ कर इन तमाम सवालों के जवाब तलाश रही है। इलाके के लोगों ने बताया कि आरोपी जिन गाड़ी से कारोबारी के यहां आए थे, वह गाड़ी पंजाब नंबर की थी। वहीं आरोपियों ने यह भी दावा किया था कि वह पंजाब एंटी करप्शन से हैं।