6 views 4 sec 0 Comment

बिहार के पटना में आतंकी मॉड्यूल का खुलासा, PM मोदी का बिहार दौरा निशाने पर था

- 14 July 2022

बिहार के पटना में आतंकी मॉड्यूल का खुलासा, PM मोदी का बिहार दौरा निशाने पर था

Crime Desk | Ann News

आतंकवाद देश के लिए एक अभिशाप है. अक्सर सरकार आतंकवाद को रोकने के लिए काई सख्त कदम उठाती है, पर अगर आतंकी सरकार के लिए ही खतरा बन जाये तब क्या होगा? ठीक ऐसा ही हुआ है, बिहार ही राजधानी पटना में जहा आतंकी PM मोदी के लिए एक खतरे के रूप में उभरे है. बिहार के पटना से पुलिस ने संभावित आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस आतंकी मॉड्यूल के निशाने पर प्रधानमंत्री मोदी का बिहार दौरा था. वह 12 जुलाई को पटना पहुंचे थे. 15 दिन पहले फुलवारी शरीफ में हमले के लिए संदिग्ध आतंकियों की ट्रेनिंग भी शुरू हुई थी.

पुलिस ने की गिरफ़्तारी

इस मामले में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए दोनों कथित आतंकवादियों में से एक झारखंड पुलिस का रिटायर्ड दरोगा मोहम्मद जलालुद्दीन और दूसरा अतहर परवेज है. अतहर परवेज पटना के गांधी मैदान में हुए बम धमाके का आरोपी मंजर का सगा भाई है.

पुलिस द्वारा मिली जानकारी में पता चला की दोनों संदिग्ध आतंकवादियों के तार पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) से जुड़े हैं. पुलिस ने इन दोनों के पास से से पीएफआई का झंडा, बुकलेट, पंपलेट और कई संदिग्ध दस्तावेज बरामद किए हैं. जिसमें भारत को 2047 तक इस्लामिक मुल्क बनाने का जिक्र किया गया है.

देते थे लड़कों को ट्रेनिंग:

बताया जा रहा है कि अतहर परवेज और मोहम्मद जलालुद्दीन दोनों एनजीओ के नाम पर आतंक की फैक्ट्री चला रहे थे और उनका मुख्य उद्देश्य हिंदुओं के खिलाफ मुस्लिमों को भड़काना था. मुस्लिम नौजवानों को यह दोनों अस्त्र-शास्त्र की ट्रेनिंग दिया करते थे और फिर राष्ट्रीय स्तर, राज्य स्तर, जिला स्तर पर पीएफआई और एसडीपीआई के सक्रिय सदस्यों के साथ बैठक में किया करता था.दोनों संदिग्ध आतंकी सिमी के पुराने सदस्य जो जेल में बंद है उनकी जमानत करवाता था और उन्हें आतंकी ट्रेनिंग भी देते थे.