10 views 6 sec 0 Comment

रुड़की: बुधबाजार में तहबाजारी के खिलाफ व्यापारियों का हंगामा-बाजार किया बंद-ठेकेदार पर लगाए गंभीर आरोप

- 8 February 2024
रुड़की: बुधबाजार में तहबाजारी के खिलाफ व्यापारियों का हंगामा-बाजार किया बंद-ठेकेदार पर लगाए गंभीर आरोप

रुड़की: बुधबाजार में तहबाजारी के खिलाफ व्यापारियों का हंगामा-बाजार किया बंद-ठेकेदार पर लगाए गंभीर आरोप

Report: Salman Malik

रुड़की मे सिंचाई विभाग की भूमि में लगने वाले साप्ताहिक बुधबाजार में व्यापारियों ने बाजार बंद करके तहबाजारी का विरोध किया। आरोप लगाया कि तहबाजारी ठेकेदारी मनमानी वसूली करता है इसके साथ ही व्यापारियों के साथ अभद्रता भी की जाती है। वहीं ठेकेदार ने कुछ लोगों पर दबंगई कर दुकानदारों को बरगलाने का आरोप लगाया है और आरोप यह भी लगाया कि वही लोग ठेकेदारी में अपना साझा करना चाहते हैं।

व्यापारियों ने एकत्र होकर नारेबाजी कर हंगामा किया

रुड़की में बुधबाजार लगाने वाले व्यापारियों ने एकत्र होकर नारेबाजी कर हंगामा किया। इस दौरान युवा नेता समाजसेवी योगेश कुमार के नेतृत्व में सिंचाई विभाग के अधिकारियों से मुलाकात की। व्यापारियों ने आरोप लगाया कि जिस व्यक्ति को सिंचाई विभाग द्वारा तहबाजारी का ठेका दिया गया है वह मनमानी वसूली करता है। आरोप लगाया कि व्यापारियों से अभद्रता की जाती है।

सिंचाई विभाग अधिकारियों से मांग की गई है

योगेश कुमार ने कहा कि सिंचाई विभाग अधिकारियों से मांग की गई है कि वह एक निर्धारित मूल्य तय करें और सभी व्यापारियों की समान पर्ची काटी जाये। योगेश के अनुसार अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि दो दिनों में कमेटी का गठन कर मामले में उचित कारवाई की जायेगी। व्यापारियों ने विरोध स्वरूप बाजार को बंद किया गया उन्होंने कहा कि जब तक मामलों का निस्तारण नहीं होता तब तक बाजार नही लगाया जाएगा।

कुछ लोग उन्हें ब्लैकमेल कर रहे

वहीं तहबाजारी ठेकेदार परवेज सुल्तान और सलमान का कहना है कि कुछ लोग उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं वह दबंग लोग चाहते हैं कि वह ठेकेदारी में साझेदारी करें। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा सिंचाई विभाग द्वारा तय की गई राशि से भी कम पैसे की रसीद काटी जाती है। इसके साथ ही ठेकेदारों ने आरोप लगाया कि कुछ लोगों द्वारा दुकानों की जमीनों को घेर रखा है और उन्हें बाहर से आने वाले व्यापारियों को 800 से 1000 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से दिया जाता है उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए और केवल वही व्यापारी अपनी दुकान लगाए जो वहां कारोबार करता है