18 views 3 sec 0 Comment

दिव्यांगजनों के पुनर्वास और सहायक प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने के लिए एकजुट हुए सीएसआईआर-सीएसआईओ और एलिम्को

- March 6, 2024
दिव्यांगजनों के पुनर्वास और सहायक प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने के लिए एकजुट हुए सीएसआईआर-सीएसआईओ और एलिम्को

दिव्यांगजनों के पुनर्वास और सहायक प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने के लिए एकजुट हुए सीएसआईआर-सीएसआईओ और एलिम्को

रिपोर्ट: जगजीत सिंह

नई दिल्ली, दिव्यांगजनों के जीवन को बेहतर बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम में, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद – केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन (सीएसआईआर-सीएसआईओ) और भारतीय कृत्रिम अंग विनिर्माण निगम (एएलआईएमसीओ) ने पुनर्वास और सहायक प्रौद्योगिकी के डिजाइन, विकास और विनिर्माण में सहयोग के लिए एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

सीएसआईआर-सीएसआईओ के निदेशक प्रोफेसर शांतनु भट्टाचार्य और एलिम्को के सीएमडी श्री प्रवीण कुमार के मध्य समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किया गया। दिव्यांग व्यक्तियों के लिए पहुंच और समावेशिता सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। सचिव ( डीईपीडब्ल्यूडी) श्री राजेश अग्रवाल, सयुंक्त सचिव श्री राजेश यादव की सम्मानित उपस्थिति में दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग (डीईपीडब्ल्यूडी) के कार्यालय में यह कार्यक्रम आयोजित हुआ।

कार्यक्रम के दौरान, सीएसआईआर-सीएसआईओ के वैज्ञानिक भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े थे, जिन्होंने पुनर्वास और सहायक प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नवाचार और तकनीकी प्रगति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सहयोगात्मक प्रयासों में अपनी प्रतिबद्धता और भागीदारी का प्रदर्शन किया।

सीएसआईआर-सीएसआईओ और एलिम्को के बीच यह सहयोग दिव्यांग व्यक्तियों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने, अत्याधुनिक समाधान विकसित करने के लिए वैज्ञानिक विशेषज्ञता और विनिर्माण क्षमताओं का लाभ उठाने के एक ठोस प्रयास का प्रतीक है। संसाधनों और ज्ञान को एकत्रित कर, दोनों संगठन जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने और देश भर में दिव्यांगजनों के जीवन को अधिक सुगम और स्वतंत्र बनाने की दिशा में कार्य करने के लिए तैयार हैं।

यह एमओयू नवाचार, समावेशिता और सामाजिक प्रभाव की विशेषता वाली एक उपयोगी साझेदारी के लिए मंच तैयार करता है। संयुक्त अनुसंधान, विकास और विनिर्माण पहल के माध्यम से, सीएसआईआर-सीएसआईओ और एलिम्को दिव्यांगजनों को सशक्त बनाने और जीवन के सभी पहलुओं में उनकी पूर्ण भागीदारी को सुविधाजनक बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।