22 views 5 sec 0 Comment

हेलिकॉप्टर क्रैश में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत,शोक में डूबा ईरान

- May 20, 2024
हेलिकॉप्टर क्रैश में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत,शोक में डूबा ईरान

हेलिकॉप्टर क्रैश में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत,शोक में डूबा ईरान

ईरान के हेलिकॉप्टर हादसे में बेहद दुखद खबर आई है. इस घटना में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत हो गई है.जिनकी उम्र लगभग 63 वर्ष बताई जा रही है इस हादसे में राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी के अलावा ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियन, पूर्वी अजरबैजान प्रांत के गवर्नर मालेक रहमती और धार्मिक नेता मोहम्मद अली आले-हाशेम की भी मौत हो गई है. ये सभी लोग एक ही हेलिकॉप्टर में सवार थे. बता दें कि राष्ट्रपति के काफिले में तीन हेलिकॉप्टर शामिल थे, जिनमें से दो तो सुरक्षित लौट आए, लेकिन वह हेलिकॉप्टर वापस नहीं लौटा जिसमे ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी समेत अन्य लोग मौजूद थे
बता दें कि पूर्वी अजरबैजान प्रांत के पहाड़ी इलाके में क्रैश हुए हेलिकॉप्टर के मलबे तक पहुंचने के लिए बचाव दल रात भर बर्फीले तूफान के बीच संघर्ष करती रही कड़ी मशक्कत के बाद सोमवार को रेस्क्यू टीम घटनास्थल तक पहुंच सकी, खराब मौसम की वजह से रेस्क्यू टीम को घटनास्थल तक पहुंचने में करीब 17 घंटे लग गए.

 

मलबा देखकर कह सकते हैं और किसी के बचने की उम्मीद नहीं है

ईरान के रेड क्रिसेंट प्रमुख पिरहोसैन कोलिवांड ने कहा कि हम क्रैश साइट पर पहुंच गए हैं, मलबा देखकर कह सकते हैं और किसी के बचने की उम्मीद नहीं है घटना के बाद से ही 40 अलग-अलग रेस्क्यू टीम को जंगलों और पहाड़ी इलाकों में भेजा गया था. लेकिन बेहद खराब मौसम के कारण इस क्षेत्र में पहुंचना बहुत मुश्किल हो गया था. जबकि आकाश मार्ग से वहां पहुंचना संभव नहीं है.
हालांकि दुर्घटना की असल वजह तो हेलिकॉप्टर रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा होने के बाद सामने आ सकती है लेकिन रिपोर्ट्स की मानें तो शुरुआती कारण खराब मौसम को बताया जा रहा है. ऐसा कहा जा रहा है है कि खराब मौसम की वजह से इस हेलिकॉप्टर की ‘हार्ड लैंडिंग’ हुई.  दुर्घटना तेहरान से करीब 600 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में अजरबैजान प्रांत की सीमा पर जोल्फा के पास हुआ है
साथ ही आपको बता दे कि हादसे के बाद राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को लेकर पूरा ईरान चिंता में डूबा हुआ था. घटना के बाद वहां के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला खुमैनी ने भी अपना बयान जारी किया था तब उन्होंने कहा था,’हमें उम्मीद है कि खुदा राष्ट्रपति और उनके साथियों को राष्ट्र की बाहों में लौटा देंगे. सभी को उन लोगों की बेहतरी के लिए दुआ करनी चाहिए