6 views 15 sec 0 Comment

दिल्ली में शराब दुकान संचालकों और अफसरों को ED, CBI के नाम पर मिल रही धमकियां का खुलासा : मनीष सिसोदिया

- 30 July 2022

दिल्ली में शराब दुकान संचालकों और अफसरों को ED, CBI के नाम पर मिल रही धमकियां का खुलासा : मनीष सिसोदिया

Political Desk | ANN NEWS

नई दिल्ली: दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने आज बीजेपी पर जमकर तंस कसा है | उन्होंने कहा कि ” बीजेपी दुकानदारों, अधिकारियों को ईडी (ED) और सीबीआई (CBI) के जरिए धमका रहे हैं | वे चाहते हैं कि दिल्ली में कानूनी शराब की दुकानें बंद हों और अवैध दुकानों से पैसा कमाया जाए | हमने नई शराब नीति (Delhi new liquor policy) को रोकने का फैसला किया है और सरकारी शराब की दुकानें खोलने का आदेश दिया है ”|

भ्रष्टाचार रोकने के लिए नई नीति

मनीष सिसोदिया ने कहा कि ”हम भ्रष्टाचार को रोकने के लिए नई शराब नीति लाए | इससे पहले सरकार को 850 शराब की दुकानों से करीब 6,000 करोड़ रुपये का राजस्व मिलता था | लेकिन नई नीति के बाद, हमारी सरकार को इतनी ही दुकानों से 9,500 करोड़ रुपये से अधिक मिले ”|

कितना आता शराब नीति से आय

मनीष सिसोदिया ने बीजेपी को निशाना बनाते हुए कहा कि आज दो राज्यों की शराब नीति के प्रमाण रखूंगा | गुजरात में खुलेआम शराब बिकती है और बीजेपी के लोग ही शराब बनाते और बेचते हैं | जहरीली शराब पीकर लोगों की जान जा रही है | यह मॉडल गुजरात में लागू किया है | उन्होंने कहा कि दिल्ली में 2021-22 की शराब नीति लाई गई | इससे पहले बहुत भ्रष्टाचार होता था, प्राइवेट दुकानें भाजपा वालो ने अपने यार-दोस्तों को दी हुई थीं और लाइसेंस फीस नहीं बढ़ाई थी | पहले दिल्ली में 850 दुकानें थीं, जिससे 6000 करोड़ का रेवेन्यू मिलता था | सिसोदिया ने कहा कि, नई पॉलिसी से सरकार की आय डेढ़ गुना बढ़ जाती इसलिए नई पॉलिसी को फेल करना शुरू किया गया | शराब दुकान संचालकों को ED के नाम पर धमकाया गया और वे दुकान छोड़कर चले गए | आज दिल्ली में 468 दुकानें हैं |

मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में शानदार स्कूल बने हैं और बीजेपी ने पहले भी जांच कराई, लेकिन कुछ नहीं मिला | उन्होंने कहा कि, लोकायुक्त जांच पर सिसोदिया ने कहा कि अफसरों और दुकान वालों को ED और CBI की धमकियां मिलीं. कई दुकान वाले दुकानें छोड़कर चले गए | ED और CBI की धमकी देकर इन्होंने सारे अफसरों को भी डरा दिया है | कोई अधिकारी खाली हो रही दुकानों को दोबारा नीलामी करने को तैयार नहीं हो रहा |