4 views 9 sec 0 Comment

चीन ने पाकिस्तान से मिलाया हाथ, फायर ड्रिल में हिस्सा लेंगी दोनों देशों की नौसेना

- 12 July 2022

चीन ने पाकिस्तान से मिलाया हाथ, फायर ड्रिल में हिस्सा लेंगी दोनों देशों की नौसेना

International Desk | Ann News

चीन और पाकिस्तान की नौसेनाएं चार दिवसीय संयुक्त समुद्री २ अभ्यास के तहत शंघाई तटीय क्षेत्र के पास आज शस्त्रों का प्रत्यक्ष अभ्यास (लाइव फायर ड्रिल) करेंगी. सरकारी मीडिया ने सोमवार को इसकी जानकारी दी. कूटनाम ‘सी गार्डियन्स-2’ वाले इस अभ्यास में भाग ले रहे सैन्य बेड़े शंघाई में एक सैन्य बंदरगाह से निर्धारित समुद्री क्षेत्र के लिए रवाना होंगे. सरकारी शिन्हुआ समाचार एजेंसी की खबर के अनुसार, संयुक्त अभ्यास का उद्देश्य रक्षा सहयोग को बढ़ाना, विशेषज्ञता तथा अनुभव बढ़ाना, दोनों देशों एवं सेनाओं के बीच परंपरागत मित्रता को गहरा करना तथा चीन-पाकिस्तान की सर्वकालिक रणनीतिक सहयोगात्मक साझेदारी के विकास को बढ़ावा देना है.

इसके तहत सोमवार को पेशेवर और तकनीकी जानकारी का आदान-प्रदान, रस्साकशी और बास्केटबॉल मैच हुए. दोनों देशों ने रविवार को सी गार्डियन्स-2 को शुरू किया और समुद्री सुरक्षा खतरों से मिलकर निपटने के लिए अपने नये उच्च तकनीक युक्त नौसैनिक पोतों और लड़ाकू विमानों को तैनात किया. दोनों देशों की नौसेनाओं ने भारत के नजदीक हिंद महासागर में सहयोग तेज किया है.

पाकिस्तानी नौसेना का युद्धपोत ‘तैमूर’ हुआ शामिल

सरकारी ग्लोबल टाइम्स की रविवार की खबर के अनुसार, चीन की पीएलए ईस्टर्न थियेटर कमांड नौसेना ने युद्धपोत शियांगटन, शुओझोऊ, समग्र आपूर्ति पोत क्वियानदा ओहू, एक पनडुब्बी, एक शीघ्र चेतावनी विमान, दो लड़ाकू विमान तथा अभ्यास के लिए एक हेलीकॉप्टर को भेजा. वहीं पाकिस्तानी नौसेना का युद्धपोत तैमूर अभ्यास में शामिल हुआ.

पाकिस्तान को मिलेगी 8 चीनी सबमरीन

पाकिस्तानी सेना का युद्धपोत तैमूर चीन द्वारा निर्मित चार टाइप के 054A/P वॉरशिप में से दूसरा है. इस युद्धपोत को 23 जून को शंघाई में पाकिस्तानी नौसेना को दिया गया था. डेली की रिपोर्ट के मुताबिक, टाइप 054A/P- क्लास में पहला शिप तुगरिल जनवरी महीने में पाकिस्तान नौसेना के बेड़े में शुमार हुआ था. पाकिस्तानी नौसेना ने साल 2017 में बीजिंग के साथ चार टाइप के 054A/P वॉरशिप के निर्माण की डील की थी. चीन से 4 मॉर्डन नौसैनिक युद्धपोत हासिल करने के अलावा पाकिस्तान को पाकिस्तान नेवी के आधुनिकीकरण के प्रयासों के तहत 8 चीनी सबमरीन भी मिलेंगी.